Skip to content
Home » वास्तु दोष के लक्षण क्या है?

वास्तु दोष के लक्षण क्या है?

घर के सदस्‍यों का अक्‍सर बीमार रहना वास्‍तु दोष का लक्षण है. – तमाम कोशिशों के बाद भी घर में पैसा न टिकना, आय न बढ़ता, तरक्‍की न होना वास्‍तु दोष का लक्षण है. ऐसे लोगों के हाथ आए अवसर भी निकल जाते हैं. – बार-बार धन हानि होना या आर्थिक स्थिति में बार-बार उतार-चढ़ाव आना भी वास्‍तु दोष का संकेत है.

कैसे पता करें ki घर में वास्तु दोष है?

घर में शांति का भंग होना, कलेश रहना आदि कुछ संकेत हैं, जो घर में वास्तु दोष होने का इशारा देते हैं. Vastu Dosh: घर में मौजूद वास्तु दोष लोगों के जीवन में बुरा असर डालते हैं. घर में शांति का भंग होना, कलेश रहना आदि कुछ संकेत हैं, जो घर में वास्तु दोष होने का इशारा देते हैं.

घर में वास्तु दोष है तो क्या करें?

सुंदर बनाएं घर को : घर में किसी भी प्रकार से वास्तु दोष है तो घर को स्वास्तिक चिन्ह, मांडने और पौधों से सजाएं। पीले, गुलाबी और हल्के नीले रंग का उपयोग करें। दक्षिण की दिशा में भारी सामान रखें जैसे लोहे की अरमारी, पलंग, फ्रीज आदि। घर की वस्तुओं के स्थान को बदलकर भी वास्तु दोष ठीक किया जा सकता है।

वास्तु दोष के कारण क्या है?

लगातार और अधिक मेहनत के बाद भी अगर आर्थिक स्थिति नहीं सुधरती है तो घर में वास्तु दोष हो सकता है. वास्तु शास्त्र के अनुसार, दक्षिण-पश्चिम दिशा में वास्तु दोष होने से धन अर्जित करने में समस्या आती है. इस स्थिति में घर के मुख्य द्वार या खिड़की की दिशा बदलने की सलाह दी जाती है.

किस प्रकार के वास्तु दोष से कौन से रोग होते हैं?

वास्तु दोष के कारण हो सकती हैं ये बीमारियां, इस तरह करें बचाव
  • जानें किस वास्तुदोष के कारण हो सकती है कौन सी बीमारी …
  • वास्तुदोष से अनिद्रा …
  • चक्कर, बेचैनी और सिरदर्द का कारण …
  • हार्ट अटैक, लकवा, हड्डी और स्नायु रोग कारण …
  • गृहणी के रोगी रहने का कारण …
  • वायु रोग और रक्त विकार …
  • जोड़ों का दर्द और गठिया

बेडरूम में क्या नहीं होना चाहिए?

बेडरूम में ना रखें यह चीज

बेडरूम में आप किसी भी प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक आइटम ना रखें, इससे नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है। साथ ही आप किसी भी प्रकार को पौधा और पानी वाली वस्तुएं ना रखें, जैसे मछली घर और पानी का प्याला आदि।

घर में वास्तु दोष हो तो कैसे पहचाने?

एक घर जो एक अनियमित आकार के भूखंड पर या घर में एक भी विषम आकार के एक कमरे में बनाया गया है, वास्तु दोष की ओर जाता है और इसे ठीक किया जाना चाहिए।

घर में वास्तु दोष कैसे चेक करें?

ये सभी इमारतें वास्तु के अनुरूप नहीं हैं और इनमें किसी न किसी प्रकार का वास्तु दोष हो सकता है।

अपने घर के वास्तु की जांच करने के लिए 15 टिप्स #DIY
  1. घर के वास्तु की जांच के लिए टिप्स
  2. कमरे के आकार
  3. आपके घर का वेंटिलेशन
  4. घर में पौधे
  5. गृह सजावट
  6. संगठित घर
  7. टूट-फूट, लीकेज या लूज फिक्स्चर का ध्यान रखें
  8. पूजा कक्ष

रात में पति और पत्नी को कैसे सोना चाहिए?

वास्तु के अनुसार बेड की दिशा

शायद तुम पसंद करोगे  गूगल मुझे कौन सा मोबाइल खरीदना चाहिए?

वास्तु के अनुसार विवाहित जोड़ों को अपना सिर दक्षिण, दक्षिण-पूर्व या दक्षिण-पश्चिम की ओर रखना चाहिए। यह सलाह दी जाती है कि सोते समय सिर उत्तर की ओर न रखें।

घड़ी का मुंह किधर होना चाहिए?

घड़ी लगाने की सही सही दिशा पूर्व दिशा मानी जाती है। वास्तु के अनुसार पूर्व दिशा में घड़ी लगाना शुभ होता है। इसे घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है और मां लक्ष्मी का आगमन होता है। इसके अलावा घड़ी को पश्चिम दिशा में भी लगाना अच्छा नहीं माना जाता है।

कांच की कटोरी में नमक रखने से क्या होता है?

कांच की कटोरी में रखें नमक

कांच की कटोरी में साबुत नमक रखने से घर में धन की कमी दूर होती है. इसके साथ ही सुख-शांति बनी रहती है. वास्तु दोष से छुटकारा पाने के लिए एक कटोरी लें और उसमें क्रिस्टल नमक यानि साबुत नमक रखकर बाथरूम में रख दें.

हमेशा बीमार रहने का क्या कारण है?

अगर आप बार-बार बीमार पड़ रहे हैं तो इसके कई कारण हो सकते हैं। गलत खानपान और खराब लाइफस्टाइल की वजह से भी आजकल लोग बीमार पड़ने लगे हैं। इसके अलावे एक्‍सरसाइज न करना, साफ-सफाई पर ध्‍यान न देना, जरूरी पोषक तत्‍व न लेना आद‍ि जैसी चीजों को नजरअंदाज करके के भी लोग अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

घर से बीमारी को कैसे दूर करे?

जल को किसी पेड़ जैसे पीपल आदि में चढ़ा दें और आटे का पेड़ा गाय को खिला दें। इस उपाय को तीन दिनों तक करना चाहिए। माना जाता है कि इससे रोगी को जल्दी ही स्वास्थय लाभ होने लगता है। यदि कोई आपके घर में लंबे समय से बीमार है और स्वस्थ नहीं हो पा रहा है तो उसे दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सुलाना चाहिए।

घर में कोई बीमार होता है तो लोग क्या करते हैं?

घर के मुख्यद्वार के सामने साफ-सफाई होना जरूरी है. घर के मेन दरवाजे के सामने गंदगी इकट्ठा न करें. –घर के सदस्य अगर बार-बार बीमार हो रहे हैं तो उनके सोने की दिशा पर जरूर ध्यान दें. सोते समय परिवार के हर सदस्य का सिर दक्षिण दिशा की तरफ होना चाहिए और पैर उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए.

सुबह उठकर क्या करना चाहिए जिससे लक्ष्मी आए?

  • अपने घर में तुलसी का पौधा जरूर लगाएं और सुबह स्नान करके जल जरूर चढ़ाएं। …
  • सुबह से समय स्नान करने के बाद तांबे के लोटे में जल भरकर थोड़ा सा सिंदूर, फूल डालकर उगते हुए सूर्य को अर्पित जरूर करें। …
  • सुबह के समय घर की साफ-सफाई करके मुख्य द्वार में घी का दीपक जलाना चाहिए

पोछा लगाते समय पानी में क्या डालना चाहिए?

वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर की साफ-सफाई करते समय अगर पानी में थोड़ा सा नमक डालकर पोछा लगाया जाए, तो घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाती है। मान्यता है कि इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है और परिवार के लोगों की परेशानियां दूर होने लगती हैं।

शायद तुम पसंद करोगे  अच्छी शिक्षा क्या करती है?

नमक से लक्ष्मी कैसे आती है?

इसके लिए आपको घर में पोछा लगाते वक्त उसके पानी में समुद्री या खड़ा नमक डालना है। इस उपाय से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है, वातावरण की पवित्रता बढ़ती है साथ ही लक्ष्मी प्राप्ति के मार्ग खुल जाते हैं। आप यदि व्यवसायी हैं तो ये उपाय आपको जरूर करना चाहिए क्योंकि ये आपके घर आ रहे धन में बरक्कत करता है।

शेर मुखी मकान क्यों नहीं लेना चाहिए?

सिंह मुखी भवन किसके लिए

ऐसा माना जाता है कि जैसे-जैसे दोनों ओर दुकान अथवा फैक्ट्री की दीवारों की वृद्धि होती है, उसी प्रकार दुकान के व्यवसाय और फैक्ट्री में निरंतर वृद्धि के संकेत होते हैं। सिंह मुखी भूखंड पर आवासीय भवन या फ्लैट नहीं बनाने चाहिए

क्या उत्तर मुखी मकान शुभ होता है?

वास्तु के अनुसार उत्तरमुखी प्लॉट शुभ माना जाता है। उत्तरमुखी प्लॉट के लिए दक्षिण और पश्चिम दिशा की दीवारों की तुलना में उत्तर और पूर्व में चारदीवारी पतली और छोटी बनाएं। सुनिश्चित करें कि उत्तरमुखी प्लॉट का ढलान दक्षिण-पश्चिम दिशा में नहीं है, क्योंकि इससे संपत्ति का नुकसान हो सकता है।

स्त्री को सबसे ज्यादा मजा कब आता है?

लेकिन महिलाओं का मानना था कि सुबह के समय उन्हें सेक्स करने में ज्यादा आनंद आता है। जब वह सुबह के समय यौन संबंध बनाती हैं तो उन्हें जल्दी ही संतुष्टि प्राप्त हो पाती है। यही कारण है कि ज्यादातर महिलाएं सुबह के समय सेक्स करना ज्यादा पसंद करती हैं।

स्त्री को जोश कब आता है?

ओव्यलैशन के समय- ओव्यलैशन जैविक रुप से सेक्स का सर्वोत्तम समय है क्योंकि इस वक़्त महिलाओं के हार्मोन्स काफी सक्रिय होते हैं। एस्ट्रोजन का स्तर अक्सर उच्च होता है और कभी-कभार ही कम होता है। साथ ही इस समय प्रोजेस्ट्रॉन का स्तर भी काफी ऊंचा होता है जिससे महिलाओं को सेक्स की डिज़ायर बहुत अधिक होती है।

सुबह उठकर पति के पैर छूने से क्या होता है?

ऐसा कहा जाता है कि पुरुष शरीर की सभी नसें पैरों पर समाप्त होती हैं और महिला शरीर की सभी नसें हाथों में शुरू होती हैं इसलिए जब महिला अपने पति के पैर दबाती है तो यह उसके पति को उसके सभी तनावों से मुक्त कर देती है।

शायद तुम पसंद करोगे  सीताराम जी की उम्र कितनी है?

बिस्तर में पति को खुश कैसे करें?

बोल्ड बनें: बोल्ड बन जाना, अपने पति को खुश करने का एक और दूसरा तरीका होता है। बोल्ड बनने के लिए, जब आप किसी चीज को चाहें, तो उसके बारे में आपके पति को बताना शामिल होता है। आप जो करना चाहती हैं, उसे बताते हुए रात की कमान अपने हाथ में लें और अपने पति को बेडरूम में खींचकर ले जाएँ।

घड़ी कैसे देखना चाहिए?

छोटी सुई को घंटे (hour) पढ़ने के लिए इस्तेमाल करें: घड़ियों में 2 हैंड या सुई रहती हैं और एक बड़ी सुई होती है। छोटे वाला हैंड घंटे को मार्क करता है। ये चाहे जिस भी नंबर को पॉइंट करे, दिन का वही घंटा चल रहा होगा। जैसे, अगर छोटी सुई “1” को पॉइंट कर रही है, तो इसका मतलब कि 1 ओ’क्लॉक घंटे हो चुके हैं।

दो घड़ी कितना होता है?

पहर के बारे में पूछे गये सवाल के संदर्भ में कहा गया है कि एक प्रहर कोई तीन घंटे का होता है. एक घंटे में लगभग दो घड़ी होती हैं, एक पल लगभग आधा मिनट के बराबर होता है और एक पल में चौबीस क्षण होते हैं.

बेडरूम में कौन से भगवान की तस्वीर लगानी चाहिए?

बेडरूम में मोर-मोरनी की तस्वीर जरूर लगानी चाहिए, इससे न सिर्फ पति-पत्नी के संबंध लंबे समय तक मधुर रहते हैं, बल्कि दोनों के बीच रोमांस भी बढ़ता है। साथ ही इसे समृद्धि और खुशहाली का प्रतीक माना जाता है। मोर को प्रेम का भी प्रतीक माना जाता है।

घर के बाहर शीशा क्यों लगाते हैं?

यह बेहद शक्तिशाली वास्तु प्रतीक है। अत: इसे लगाने में सावधानी रखना चाहिए। 4- आवासीय भवन अथवा व्यावसायिक भवन में ईशान (उत्तर-पूर्व) क्षेत्र ,उत्तर या पूर्व दीवाr में दर्पण लगाना चाहिए इसके लगाने से आय में वृद्धि होने लगती है. और व्यवसायिक सम्बन्धी बाधाए दूर होती है ।

इंसान बार बार बीमार क्यों पड़ता है?

अगर आप बारबार बीमार पड़ रहे हैं तो इसके कई कारण हो सकते हैं। गलत खानपान और खराब लाइफस्टाइल की वजह से भी आजकल लोग बीमार पड़ने लगे हैं। इसके अलावे एक्‍सरसाइज न करना, साफ-सफाई पर ध्‍यान न देना, जरूरी पोषक तत्‍व न लेना आद‍ि जैसी चीजों को नजरअंदाज करके के भी लोग अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

कैसे पता करें कि घर में वास्तु दोष है?

घर में शांति का भंग होना, कलेश रहना आदि कुछ संकेत हैं, जो घर में वास्तु दोष होने का इशारा देते हैं. Share: Vastu Dosh: घर में मौजूद वास्तु दोष लोगों के जीवन में बुरा असर डालते हैं. घर में शांति का भंग होना, कलेश रहना आदि कुछ संकेत हैं, जो घर में वास्तु दोष होने का इशारा देते हैं.