Skip to content
Home » प्रतिदिन तुलसी पूजा कैसे करें?

प्रतिदिन तुलसी पूजा कैसे करें?

जिसके घर में तुलसी का पौधा लगा होता है उसे प्रतिदिन तुलसी पूजा करनी चाहिए प्रातः सुबह जल्दी उठकर स्नान करके मंदिर में पूजा करने के बाद तुलसी में जल चढ़ाएं और गाय के शुद्ध घी से दीपक प्रज्वलित करें. और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

रोजाना तुलसी की पूजा कैसे करें?

तुलसी की पूजा के लिए आप जल का कलश, अगरबत्ती, धूपबत्ती, घी का दीपक, सिन्दूर, पुष्प, नैवेद्य आदि रखें। सभी सामग्रियां एक साथ रखें और तुलसी माता का ध्यान करते हुए इस पौधे में जल अर्पित करेंतुलसी को जल अर्पित करने का भी तरीका होता है। इसके लिए जल आपको तुलसी की जड़ में ही अर्पित करना है।

सुबह तुलसी की पूजा कैसे करें?

तुलसी पूजा विधि

तुलसी पूजन दिवस के दिन सबसे पहले प्रात:काल उठकर स्नान करें, इसके बाद तुसली के पौधे को जल अर्पित करें. इसके बाद अपनी श्रद्धा अनुसार माता पर फल-फूल चढ़ाएं, उन्हें सिंदूर और लाल चुनरी भी अर्पित करें. पूजा के बाद अगर संभव हो तो तुलसी का माला का जाप करें.

तुलसी में दीपक कब नहीं चलना चाहिए?

तुलसी पूजा की सावधानियां

रविवार के दिन तुलसी के नीचे दीपक नहीं जलाने चाहिए.

तुलसी की पूजा कितने बजे करनी चाहिए?

इस तिथि की समाप्ति अगले दिन 05 नवंबर शनिवार को शाम 05 बजकर 06 मिनट पर हो रही है. उदयातिथि के आधार पर तुलसी विवाह 05 नवंबर को किया जाएगा और इस दिन ही व्रत रखा जाएगा. तुलसी विवाह शाम के समय किया जाता है. 05 नवंबर को शाम 05:35 बजे से लेकर शाम 07:12 बजे तक शुभ-उत्तम मुहूर्त है.

शायद तुम पसंद करोगे  फैक्ट्री को इंग्लिश में क्या बोलेंगे?

तुलसी में दीपक कब जलाना चाहिए?

प्रातःकाल तुलसी के पौधे में जल डालकर, इसकी परिक्रमा करनी चाहिए. नियमित रूप से सायंकाल इसके नीचे घी का दीपक जलाना सर्वोत्तम होता है.

क्या रविवार को तुलसी में दीपक जलाना चाहिए?

रविवार के दिन तुलसी को जल तो चढ़ा सकते हैं, लेकिन उसके नीचे दीपक नहीं जला सकते। भगवान गणेश और मां दुर्गा को कभी भी तुलसी ना चढ़ाएं। इसके अलावा यह भी ध्यान रखें कि जहां भी तुलसी का पौधा लगाया गया है, वहां कभी गंदगी ना करें।

तुलसी को जल देते समय क्या बोलना चाहिए?

तुलसी में जल देते समय विशेष मंत्र का उच्चारण किया जाता है. मान्यता है कि तुलसी में जल देते समय इस मंत्र को बोलने से सुख-समृद्धि बढ़ती है. इसके अलावा इस मंत्र के उच्चारण से रोग-शोक मिट जाते हैं. मंत्र है- ‘महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी, आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते.

तुलसी की पूजा करते समय क्या बोलना चाहिए?

1-तुलसी स्तुति मंत्र :

नमो नमस्ते तुलसी पापं हर हरिप्रिये।। तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी। धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।। लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्।

तुलसी को रात में क्यों नहीं छूना चाहिए?

रात के समय क्यों न करें तुलसी का स्पर्श

शास्त्रों के अनुसार कभी भी रात के समय तुलसी को छूना नहीं चाहिए। ऐसा माना जाता है कि तुलसी में माता लक्ष्मी का वास होता है और यदि इस पौधे का स्पर्श रात में किया जाता है तो घर में धन हानि के योग बनते हैं। मान्यता यह भी है कि तुलसी में कभी भी रात के समय जल भी नहीं चढ़ाना चाहिए

शायद तुम पसंद करोगे  दुनिया में सबसे खतरनाक आर्मी किसकी है?

तुलसी का पत्ता तकिए के नीचे रखने से क्या होता है?

बस सोने से पहले अपने तकिए के नीचे पांच तुलसी के पत्ते रखकर सो जाएं। इससे घर की सारी नेगेटिविटी दूरी हो जाएगी। सुबह के समय तुलसी के 4 पत्तियों को तोड़ लें। फिर पीतल के बर्तन में पानी डालकर भिगो दें।

सुबह उठकर क्या करना चाहिए जिससे लक्ष्मी आए?

  • अपने घर में तुलसी का पौधा जरूर लगाएं और सुबह स्नान करके जल जरूर चढ़ाएं। …
  • सुबह से समय स्नान करने के बाद तांबे के लोटे में जल भरकर थोड़ा सा सिंदूर, फूल डालकर उगते हुए सूर्य को अर्पित जरूर करें। …
  • सुबह के समय घर की साफ-सफाई करके मुख्य द्वार में घी का दीपक जलाना चाहिए

धन लक्ष्मी का पौधा कौन सा होता है?

Vastu Tips for lucky plant वास्तु शास्त्र में लक्ष्मणा के पौधे का काफी अधिक महत्व है। यह पौधा मां लक्ष्मी को अति प्रिय है। इसलिए इसे घर में लगाने से कभी भी धन की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। जानिए किस दिशा में लगाएं लक्ष्मणा पौधा

तुलसी के पास कौन सी पांच चीजें ना रखें?

तुलसी को माता लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है. माना जाता है कि तुलसी के पास जूते-चप्पल रखने से माता लक्ष्मी रूठ जाती हैं. तुलसी के गमले में कभी भी शिवलिंग नहीं रखना चाहिए. मान्यता के मुताबिक पूर्व जन्म में तुलसी का नाम वृंदा था जो जालंधर नाम के एक राक्षस की पत्नी थी.

तुलसी के पास कौन सी पांच चीजें नहीं रखनी चाहिए?

तुलसी के आस-पास कभी भी जूते या चप्पल नहीं रखना चाहिए. तुलसी को माता लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है. माना जाता है कि तुलसी के पास जूते-चप्पल रखने से माता लक्ष्मी रूठ जाती हैं. तुलसी के गमले में कभी भी शिवलिंग नहीं रखना चाहिए.

शायद तुम पसंद करोगे  कुत्ते में कौनसी संज्ञा है?

पर्स में क्या रखने से लक्ष्मी आती है?

Peepal leaves in purse पर्स में पीपल के पत्ते: पीपल के पत्ते में मां लक्ष्मी का वास होता है। जो व्यक्ति शुक्रवार और शनिवार पीपल के पेड़ की पूजा करता है, जीवन भर उसके पास धन की कोई कमी नहीं होती। वास्तु शास्त्र के अनुसार कहा जाता है की पीपल के पत्तों को पर्स में रखने से मां का आशीर्वाद बना रहता है।

क्या 3 30 बजे उठना अच्छा है?

यदि आप सुबह 3 बजे या किसी अन्य समय पर उठते हैं और ठीक से वापस नहीं सो पाते हैं, तो इसके कई कारण हो सकते हैं। इनमें हल्का नींद चक्र, तनाव या अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियां शामिल हैं। आपका सुबह 3 बजे जागना शायद ही कभी हो और कुछ भी गंभीर न हो, लेकिन नियमित रूप से इस तरह की रातें अनिद्रा का संकेत हो सकती हैं।

कुबेर का पौधा कौन सा होता है?

इस पौधे का नाम क्रासुला (crassula plant) है। जी हां, क्रासुला के पौधे को कुबेर देवता का प्रिय पौधा माना जाता है।

घर में लक्ष्मी क्यों नहीं आती है?

जिन घरों में लोग महिलाओं का अपमान करते हैं या फिर उनके साथ मार-पीट करते हैं, उनके घर में कभी मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है। इसके साथ ही घर के बड़े-बुजुर्गों और गरीबों का अपमान करने पर भी मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं।