छोड़कर सामग्री पर जाएँ
Home » केले का पेड़ घर में लगाना शुभ होता है क्या?

केले का पेड़ घर में लगाना शुभ होता है क्या?

केले के पेड़ को हमेशा घर के पीछे लगाना चाहिए. इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है. हिंदू शास्त्रों के अनुसार, माना जाता है कि केले में भगवान श्री हरि विष्णु का वास होता है और तुलसी में मां लक्ष्मी का वास माना जाता है.

केला का पेड़ घर के सामने लगाने से क्या होता है?

ऐसा माना जाता है कि केले के पेड़ में भगवान विष्णु और गुरु बृहस्पति का वास होता है. इसे घर में लगाने से सुख, संपन्नता आती है, लेकिन वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि यदि केले के पेड़ को घर में गलत दिशा में लगाया जाए तो यह घर की मुश्किलें बढ़ा सकता है.

केले का पौधा घर में कहां रखना चाहिए?

केले का पेड़ उपयोगी है, लेकिन आपको इसे पूर्व या उत्तर-पूर्व में रखना चाहिए, उत्तर के लिए थोड़ा वरीयता के साथ, और ध्यान से रोजाना पानी देना चाहिए। केले के पेड़ को कभी भी अपने घर या संपत्ति के दक्षिण दिशा में नहीं लगाना चाहिए। केले को बढ़ने के लिए प्रतिदिन 7 से 8 घंटे तेज धूप की आवश्यकता होती है।

केला का पेड़ कौन से दिन लगाना चाहिए?

केले के पौधे को लगाने से घर में उन्नति और बरकत बनी रहती है इसलिए लोग इसे लगाते वक्त दिशा और स्थान का अधिक ध्यान रखते है।

क्या बेलपत्र घर में लगाना चाहिए?

दरिद्रता को दूर करने के लिए घर में बेल पत्र का पौधा जरूर लगाना चाहिए. इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और धन-धान्य के भंडार भरे रहते हैं. बेलपत्र का पत्ता आप अपने धन स्थान पर रख सकते हैं इससे घर में हमेशा बरकत बनी रहती है. आर्थिक संपन्नता के लिए इसे उत्तर-दक्षिण दिशा में लगाएं.

कौन सा पौधा घर में नहीं लगाना चाहिए?

इन पेड़-पौधों से होता है कलह-क्लेश– घर या घर के आस-पास मेहंदी, रेशम, ताड़ और कपास का पेड़ नहीं लगाना चाहिए.

केले के पेड़ पर जल चढ़ाने से क्या होता है?

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, केले के पेड़ में भगवान विष्णु का वास होता है। यह वृक्ष शुभ और संपन्नता का प्रतीक माना जाता है। इसके साथ ही गुरुवार के दिन केले के पेड़ की पूजा करने से कुंडली में बृहस्पति ग्रह मजबूत होता है। इसके अलावा विवाह में आ रही अड़चनों से भी छुटकारा मिल जाता है।

तुलसी के पौधे के पास क्या नहीं रखना चाहिए?

तुलसी के आस-पास कभी भी जूते या चप्पल नहीं रखना चाहिए. तुलसी को माता लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है. माना जाता है कि तुलसी के पास जूते-चप्पल रखने से माता लक्ष्मी रूठ जाती हैं. तुलसी के गमले में कभी भी शिवलिंग नहीं रखना चाहिए.

तुलसी का पौधा घर में कहाँ लगाना चाहिए?

तुलसी के पौधे के लिए वास्तु नियम
  1. यदि तुलसी के पौधे के लिए सही दिशा की बात की जाए तो सबसे अच्छी जगह पूर्व में है, आप इसे घर की बालकनी में या खिड़की के पास उत्तर या उत्तर-पूर्व दिशा में रख सकते हैं।
  2. वास्तु के अनुसार उत्तर दिशा पानी की दिशा है। …
  3. सुनिश्चित करें कि तुलसी के पास पर्याप्त धूप उपलब्ध हो।

सबसे शुभ पौधा कौन सा होता है?

शास्त्रों के अनुसार, केले का पौधा घर के वास्तु के लिए अच्छा है क्योंकि इसे भगवान विष्णु का प्रतीक कहा जाता है। गुरुवार को भगवान विष्णु का दिन माना जाता है; और लोग अक्सर इस दिन भगवान विष्णु के साथ केले के पौधे की पूजा करते हैं। इसलिए, यह वास्तु के अनुसार घर के लिए सबसे शुभ पौधों में से एक है।

भगवान शिव को कितने बिल्व पत्ते चढ़ाने चाहिए?

ऐसा माना जाता है कि बिल्व पत्र के पत्ते भगवान शिव को प्रिय हैं। तीन पत्तों वाला बेलपत्र त्रिमूर्ति का प्रतिनिधित्व करता है: ब्रह्मा, विष्णु और महेश (शिव)। पवित्र ग्रंथों के अनुसार बेलपत्र के तीन पत्ते भगवान शिव के तीन नेत्रों का भी प्रतिनिधित्व करते हैं।

शायद तुम पसंद करोगे  भगत जी क्या बेचा करते थे?

धन देने वाला पौधा कौन सा है?

मनी प्लांट- घर में धन-सृमद्धि के प्रतीक के रूप में मनी प्लांट का पौधा सबसे ज्यादा लोकप्रिय है. यह पौधा जितनी तेजी से बढ़ता है, घर में उनती ही तेजी से धन आता है. घर में मनी प्लांट लगाते समय ख्याल रखें कि इसे आग्नेय दिशा यानी दक्षिण पूर्व दिशा में ही लगाएं. मनी प्लांट के पौधे को कभी सीधे जमीन पर ना रखें.

कौन सा पौधा लगाने से लक्ष्मी आती है?

धन प्राप्ति के लिए घर में कौन सा पौधा लगाना चाहिए? घर में हरसिंगार का पौधा लगाने से घर में सुख-शांति बनी रहती है और परिवार में खुशहाली रहती है. मान्यता के मुताबिक, जिस घर में हरसिंगार का पौधा होता है वहां मां लक्ष्मी का वास होता है. हरसिंगार का फूल मां लक्ष्मी को चढ़ाने से धन की प्राप्ति होती है.

केले कब नहीं खाने चाहिए?

अगर आयुर्वेद की मानें तो उन लोगों को केला नहीं खाना चाहिए, जिन्हें जुकाम, खांसी हो. दरअसल, आयुर्वेद में तीन प्रकृति होती है, जिसमें वात, कफ और पित्त शामिल है. इसमें कफ प्रकृति के मरीजों को खेला खाने से बचना चाहिए. इसमें भी इन लोगों को शाम को तो बिल्कुल केला नहीं खाना चाहिए.

केले कब नहीं खाना चाहिए?

केले का सेवन कब नहीं करना चाहिए?- Worst Time to Eat Banana in Hindi
  1. सर्दी-जुकाम की समस्या में न खाएं केला सर्दी-जुकाम की समस्या में केले का सेवन करने से आपको कई समस्याएं हो सकती हैं। …
  2. रात में केला खाने से बचें …
  3. एसिडिटी की समस्या में …
  4. कब्ज की समस्या …
  5. खाली पेट केला खाने से बचें

घर के सामने केले का पेड़ लगाने से क्या होता है?

केले के पेड़ को बहुत पवित्र माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि केले के पेड़ में भगवान विष्णु और गुरु बृहस्पति का वास होता है. इसे घर में लगाने से सुख, संपन्नता आती है, लेकिन वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि यदि केले के पेड़ को घर में गलत दिशा में लगाया जाए तो यह घर की मुश्किलें बढ़ा सकता है.

क्या घर में केले का पेड़ लगा सकते हैं?

मान्यताओं के अनुसार केले के पेड़ में भगवान विष्णु और देवगुरु बृहस्पति का वास होता है। इसलिए इसे घर में लगाना काफी शुभ माना जाता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, बृहस्पति सुख, समृद्धि, आत्म-संयम, सात्त्विकता, आध्यात्मिकता और दाम्पत्य सुख का प्रतिनिधित्व करता है।

क्या रविवार को तुलसी में दीपक जलाना चाहिए?

तुलसी पूजा की सावधानियां

रविवार के दिन तुलसी के नीचे दीपक नहीं जलाने चाहिए. भगवान विष्णु और इनके अवतारों को तुलसी दल जरूर अर्पित करें. भूलकर भी भगवान गणेश और मां दुर्गा को तुलसी अर्पित न करें. तुलसी के पत्ते कभी बासी नहीं होते हैं.

तुलसी का कौन सा पौधा शुभ होता है?

जानें कौन सी तुलसी होती है शुभ

हरे रंग की पत्तियों वाली तुलसी को रामा तुलसी कहा जाता है. इसे श्री तुलसी, भाग्यशाली तुलसी या फिर उज्जवल तुलसी कहा जाता है. इसे घर में लगाने से सुख समृद्धि का वास होता है. वहीं काले और बैंगनी से रंग की पत्तियों वाली तुलसी को श्यामा तुलसी कहा जाता है.

तुलसी के पास कौन सी पांच चीजें नहीं रखनी चाहिए?

तुलसी के आस-पास कभी भी जूते या चप्पल नहीं रखना चाहिए. तुलसी को माता लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है. माना जाता है कि तुलसी के पास जूते-चप्पल रखने से माता लक्ष्मी रूठ जाती हैं. तुलसी के गमले में कभी भी शिवलिंग नहीं रखना चाहिए.

तुलसी के पौधे में दूध चढ़ाने से क्या होता है?

तुलसी के पौधे में यदि आप नियमित रूप से जल में कच्चे दूध की कुछ बूंदें मिलाकर अर्पित करती हैं तो इससे भगवान् विष्णु की कृपा होती है। दरअसल तुलसी को विष्णु प्रिया माना जाता है इसलिए तुलसी में दूध चढ़ाने का मतलब है कि भगवान् विष्णु को दूध अर्पित करना। इस उपाय से घर की सुख समृद्धि बढ़ने के साथ धन लाभ के योग भी बनते हैं।

शायद तुम पसंद करोगे  हनुमान जी को कसम कैसे दी जाती है?

कौन सा पौधा लगाने से घर में लक्ष्मी आती है?

घर में हरसिंगार का पौधा लगाने से घर में सुख-शांति बनी रहती है और परिवार में खुशहाली रहती है. मान्यता के मुताबिक, जिस घर में हरसिंगार का पौधा होता है वहां मां लक्ष्मी का वास होता है. हरसिंगार का फूल मां लक्ष्मी को चढ़ाने से धन की प्राप्ति होती है.

भोलेनाथ की बेटी का नाम क्या है?

पद्म पुराण में भी शिव की पुत्री अशोक सुंदरी का जिक्र किया गया है. माना जाता है कि देवी पार्वती अपने अकेलेपन और उदासी से मुक्ति पाने के लिए कल्प वृक्ष से पुत्री की कामना की जिससे एक सुंदर सी पुत्री का जन्म हुआ. इसलिए उसका नाम अशोक सुंदरी रखा गया.

भगवान शिव की उम्र कितनी है?

शिव जी की आयु विष्णु जी की आयु से 7 गुना होती है। इसमें शिव जी का एक दिन 1000 चतुर्युग का होता है और रात्रि भी 1000 चतुर्युग की होती है। मतलब की शिव जी की आयु 504000000 × 7 = 3528000000 (तीन अरब बावन करोड़ अस्सी लाख) चतुर्युग की होती है।

कुबेर का पौधा कौन सा होता है?

इस पौधे का नाम क्रासुला (crassula plant) है। जी हां, क्रासुला के पौधे को कुबेर देवता का प्रिय पौधा माना जाता है।

लक्ष्मी जी को कौन सा पौधा पसंद है?

लक्ष्मणा पौधे को कई जगह गूमा नाम से भी जाना जाता है. वहीं, आयुर्वेद में इसे लक्ष्मणा बूटी के नाम से जाना गया है. वास्तु शास्त्र में लक्ष्मणा के पौधे को धन आकर्षित करने वाला पौधा भी कहा गया है. कहते हैं ये पौधा जहां लगा होता है वहां लक्ष्मी जी का वास होता है.

लक्ष्मी हमारे घर क्यों नहीं आती है?

जिन घरों में लोग महिलाओं का अपमान करते हैं या फिर उनके साथ मार-पीट करते हैं, उनके घर में कभी मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है। इसके साथ ही घर के बड़े-बुजुर्गों और गरीबों का अपमान करने पर भी मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं।

दो केले खाने से क्या होगा?

इसमें कई आवश्यक पोषक तत्व होते हैं जो पाचन, हृदय स्वास्थ्य और वजन को नियंत्रित रखने में सहायक माने जाते हैं। केले में थाइमिन, रिबोफ्लेबिन, नियासिन और फॉलिक एसिड जैसे कई पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा केले में फाइबर की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है जो कि पेट को ठीक बनाए रखने में अहम भूमिका निभाता है।

1 दिन में कितने केले खा सकते हैं?

विशेषज्ञों का मानना है कि दिन में एक से तीन केला खाना सामान्‍य है लेकिन इससे अधिक खाने से समस्‍या हो सकती है. प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होने की वजह से अगर आप इसे रोज खाते हैं तो यह पेट को अधिक देर तक भरा रखता है जिससे आपका वजन घट सकता है.

तुलसी की पूजा करते समय क्या बोलना चाहिए?

1-तुलसी स्तुति मंत्र :

नमो नमस्ते तुलसी पापं हर हरिप्रिये।। तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी। धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।। लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्।

घर में तुलसी सूखने का क्या कारण है?

यदि किसी पर बुध ग्रह का बुरा प्रभाव होता है तब भी बुध ग्रह आपके ऊपर बुरा प्रभाव डालना शुरू करता है तो तुलसी का पौधा सूखने लगता है। कई बार पितृ दोष के कारण भी तुलसी का पौधा सूख जाता है। इसका पता आप ऐसे लगा सकते हैं कि यदि किसी घर में बार-बार तुलसी का पौधा सूखने लगे तो पितृ दोष का प्रकोप हो सकता है।

शायद तुम पसंद करोगे  बाइबल कितने प्रकार के होते हैं?

तुलसी का पत्ता तकिए के नीचे रखने से क्या होता है?

बस सोने से पहले अपने तकिए के नीचे पांच तुलसी के पत्ते रखकर सो जाएं। इससे घर की सारी नेगेटिविटी दूरी हो जाएगी। सुबह के समय तुलसी के 4 पत्तियों को तोड़ लें। फिर पीतल के बर्तन में पानी डालकर भिगो दें।

लक्ष्मी गणेश का पौधा कौन सा होता है?

भगवान गणेश को प्रिय है श्वेतार्क का पौधा

कहा जाता है कि इस पौधे की नियमित विधि विधान से पूजा करने पर भगवान गणेश बहुत प्रसन्न होते हैं और परिवार पर अपनी कृपा बरसाते हैं. इस पर रोजाना सुबह-शाम चावल, जल, चंदन और हल्दी का अर्पण करने से घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है.

शिव जी की मृत्यु कैसे हुई?

शिव पुराण के मुताबिक भगवान शिव को स्वयंभू माना गया है यानि इनकी उत्पत्ति स्वंय हुई हैं. शिव जन्म और मृत्यु से परे हैं.

शिव के कितने बच्चे हैं?

Bhagwan Shiv ke 7 Putra: हम सभी में से ज़्यादातर लोगों को भगवान शिव (Lord Shiva) के दो पुत्रों गणेश जी (Lord Ganesh) और भगवान कार्तिकेय (Lord Kartikey) के बारे में पता है, लेकिन हिन्दू पुराणों में भगवान शिव के और 5 पुत्रों का उल्लेख मिलता है. भगवान गणेश को किसी भी शुभ कार्य के पहले पूजा की जाती है.

धन लक्ष्मी का पौधा कौन सा होता है?

लक्ष्मणा पौधे को कई जगह गूमा नाम से भी जाना जाता है. वहीं, आयुर्वेद में इसे लक्ष्मणा बूटी के नाम से जाना गया है. वास्तु शास्त्र में लक्ष्मणा के पौधे को धन आकर्षित करने वाला पौधा भी कहा गया है. कहते हैं ये पौधा जहां लगा होता है वहां लक्ष्मी जी का वास होता है.

सुबह उठकर क्या करना चाहिए जिससे लक्ष्मी आए?

  • अपने घर में तुलसी का पौधा जरूर लगाएं और सुबह स्नान करके जल जरूर चढ़ाएं। …
  • सुबह से समय स्नान करने के बाद तांबे के लोटे में जल भरकर थोड़ा सा सिंदूर, फूल डालकर उगते हुए सूर्य को अर्पित जरूर करें। …
  • सुबह के समय घर की साफ-सफाई करके मुख्य द्वार में घी का दीपक जलाना चाहिए

पर्स में क्या रखने से लक्ष्मी आती है?

Peepal leaves in purse पर्स में पीपल के पत्ते: पीपल के पत्ते में मां लक्ष्मी का वास होता है। जो व्यक्ति शुक्रवार और शनिवार पीपल के पेड़ की पूजा करता है, जीवन भर उसके पास धन की कोई कमी नहीं होती। वास्तु शास्त्र के अनुसार कहा जाता है की पीपल के पत्तों को पर्स में रखने से मां का आशीर्वाद बना रहता है।

दूध और केले खाने से क्या होता है?

केला और दूध के सेवन से शरीर को ताकत मिलती है और आपको हष्ट-पुष्ट बनाते हैं। रोजाना सुबह नाश्ते में केला और दूध का सेवन करना चाहिए। इसकी वजह से भूख जल्दी नहीं लगती है और आपका पेट भरा रहता है। केला और दूध एक साथ खाने से शरीर में प्रोटीन, विटामिन, फाइबर और मिनरल की भरपूर मात्रा मिलती है।

रात में केला क्यों नहीं खाया जाता है?

आयुर्वेद के मुताबिक, रात में केला खाने से कोई परेशानी नहीं होती, लेकिन अगर आपको सर्दी-खांसी, अस्थमा, साइनस जैसी दिक्कतें हैं, तो आपको रात में केला नहीं खाना चाहिए। क्योंकि सोने से पहले केला खाने से म्यूकस बनने का ख़तरा रहता है, जो आपकी सर्दी-खांसी की समस्या को बढ़ाता है।

रात में केला क्यों नहीं खाते?

रात में केला और दूध खाने से पाचन से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं। रात में केला और दूध लेने से खांसी या जुकाम की समस्या हो सकती है। केला और दूध खाने से आपका वजन बढ़ सकता है। इसलिए जिन लोगों का अधिक वजन है, उन्हें रात में दूध और केला खाने से बचना चाहिए।